आज के वचन पर आत्मचिंतन...

“यीशु परमेश्वर का पुत्र है” छः सरल शब्द। ये साधारण शब्दों से भी ज्यादा है, यद्द्यपि, वे ही परमेश्वर के लिए हमारे ह्रदय को खोलनेवाला द्वार है। तो आज रात, अंगीकार करे की यीशु परमेश्वर का पुत्र है, समझकर और जानकर परमेश्वर को अपने ह्रदय में स्वागत करो। जो व्यक्ति पुत्र को मानता है उसमे पिता जीवित् रहता है।

मेरी प्रार्थना...

पिता, मै मेरे जीवन को जीना चाहता हूँ और मेरे ह्रदय को आप में केन्द्रित करना चाहता हूँ। मैं खुशी से कबुल करता हूँ की आप परमेश्वर का पुत्र हो, और मेरे प्रभु और उद्धारकर्ता हो। प्रार्थना यीशु के नाम से में मांगता हूँ। अमिन।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ