आज के वचन पर आत्मचिंतन...

“परमेश्वर ने जगत से बहुत प्रेम किया है...” “ओ पिता,जिस से हर एक परिवार नाम लेते है... “परमेश्वर न सिर्फ इजराइल का परमेश्वर है.परमेश्वर प्रभु, स्वर्ग और पृथ्वी के शासक, ओ परमेश्वर सरे जगत का परमेश्वर है और एक दिन “वे सब यीशु के नाम पर घुटना टिकाएंगे और परमेश्वर पिता की महिमा के लिये हर एक जीभ उंगीकर कर ले कि यीशु मसीह ही प्रभु है!”

मेरी प्रार्थना...

महान छुटकारादेने वाला और सरे संसार का पिता, मैं विनम्रतापूर्वक अपने सिंहासन के सामने आता हूँ, और हमें अपने लोगों का प्रति आशीष देने के लिए जो आपने किया है उसके लिए मेरा धन्यवाद और प्रशंसा देता हूँ।कृपया मुझे आपको जानने दो औरअपने दैनिक उपस्थिति के बारे में मेरे जीवन में जागरूक होने दो।मुझे माफ कर दो, प्यारे पिता, जब मैं उपयुक्त जगह आपके अनुग्रह और नाम के लिए नहीं किया है।जो पाप मुझे एक समय बंदन में रखा था उस से मुझे छुड़ाने के लिए धन्यवाद.मेरे दिल को रक्षा कीजिये और मुझे दुष्ट के भ्रामक झूठ से बचाये।यीशु के नाम से प्रार्थना मांगता हूँ. अमिन.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ