आज के वचन पर आत्मचिंतन...

हम में से ज्यादातर हमारे जीवन में बहुत कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा।जब हम करते हैं, हम संभावना महसूस होगा कि हमारी प्रार्थना ऊपर से गिर जरह है।हमारे शब्दों खाली और बेकार लग जाएगा।हमारे दिल में जो है उसे अभिव्यक्त नहीं कर सखेंगे।हमें लगता है की हमारे शब्दों अप्रभावी और अपर्याप्त हैं।तो हम क्या करे?हम इस वादे पर भरोसा रखते है।हम प्रार्थना के द्वारा परमेश्वर के पास जाते है!यहां तक कि जब हमें कहने के लिए शब्द नहीं होता है, हम हमारे दिल की पेशकश करते हैं, विश्वास है कि पवित्र आत्मा उन विचारों, भावनाओं, और अव्यक्त परमेश्वर को कुंठाओं ले जाता है।आत्मा हमरे दिलोंको परमेश्वर को जानने डेट है,परमेश्वर की इच्छा के अनुसार हमारे लिए मद्यास्था करता है.जब हमारे पास शब्दों नहीं होते है, आत्मा हमारे जरूरतों को प्रस्ताव करता है. क्या एक जबरदस्त आश्वस्त अनुग्रह!

मेरी प्रार्थना...

अब्बा पिता, यह जानने में आरामदायक है कि मेरे शब्दों, विचारों, भावनाओं और सभी अपने पवित्र आत्मा के माध्यम से आप के लिए प्रस्तुत किया जाता हैं।पिता, बहुत समयों मै आप को सामना करने के लिए अपर्याप्त और दृष्टिकोण सोचता हूँ।मुझे आश्वासन देनेके लिए धन्यवाद कि आप हमेशा मुझे सुनेंगे जब मेरे पास कहने के लिए कुछ शब्दों भी नहीं मिल सकता है।यीशु के नाम से में प्रार्थना मांगता हूँ. अमिन.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ