आज के वचन पर आत्मचिंतन...

आपकी ताकत क्या है?आपकि जवानी है क्या?... आपकी स्तीति है क्या? ... आपकी ज्ञान है क्या? ...आपके मित्र है क्या? ...आपका अनुभव है क्या?हम में से कोई भी हमारे मानव क्षमता पर निर्भर नही कर सकते हैं।स्वास्थ्य,ज्ञान,और धन जीवन और परिस्थिति की कमजोरी के लिए सभी कमजोर हैं।केवल प्रभु सुनिश्चित कर सकते हैं कि हम अकल्पनीय जीवित हो सकते हैं,सांसारिक में कामयाब,और अच्छे समय में ऊंची उड़ान।चाले हम पुकारे,प्रतीक्षा करें,और प्रभु पर निर्भर कारे!

मेरी प्रार्थना...

हे प्रभु,मेरे जीवन में कठिन समय से गुजरने का समय में,मुझे बनाए रखने के लिए धन्यवाद।मेरी ऊंची उड़ान में सहायता करने के लिए धन्यवाद,आपके लिए कार्य करने के लिये जो सपने मैने देखा हूँ जो कभी मैं पूरा कर सकता हूँ। पिताहर रोज आने और जीवन की चल रही गतिविधियों को दौरान मुझे आशीष देने के लिए धन्यवाद।मेरी मदद करने के लिये और शक्ति देने के लिए आप पर निर्भर करता हु।मेरे जीवन में हर अच्छी बात के लिए मैं आपकी प्रशंसा और धन्यवाद करता हुँ। यीशु के नाम से प्रार्थना मंगता हूँ.अमीन.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ