आज के वचन पर आत्मचिंतन...

येशु की कहीवि बातों में से एक जो उसने अपने पिता जो स्वर्ग में है से कही अद्धभुत बात यह है: " अपने मुझे जो काम सौपा था मैंने उसे पूरा किया ..." यहाँ तक की जब उसने अपनी आंखरी सांस ली , उसने कहा ; "पूरा हुआ "। आओ परमेश्वर की महिमा को अधिकतम प्रार्थमिकता देते हुए अपना जीवन जीए ! परमेश्वर के बच्चे होने के नाते यह हमारा मकसद है (इफी १:६ , १:१२ , १:१४ ; १ पतरस २:९-१० )। जितना अधिक हम राज्यकीय प्रार्थमिकताओ के आधार परजीते है (मत्ती ६ :३३ ) , उतना ही हम निश्चिंत हो सकते है की येशु के सामान हम अपना जीवन भी समाप्त कर सकते है !

मेरी प्रार्थना...

प्रिय प्रभु , मुझे में महिमा पाओ ! मेरा उपयोग कर की दूसरे तुझे जाने और तेरे अनुग्रह को । येशु के नाम से प्रार्थना करता हूँ । अमिन।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ