आज के वचन पर आत्मचिंतन...

उत्तेजना, धमकी, अपमान या कठिनाई से जल्दी जवाब देना आज कई लोग इसे अपनी ताकत मानते हैं| हालांकि, क्रोध से जल्दबाजी में जवाब देना मूर्खता है| यह प्रतिक्रिया कम से कम वांछित दीर्घकालिक प्रभाव पैदा करती है और लगभग हमेशा समस्याओं को संबोधित करने की वजह होती है। धीरज के द्वारा, निराशाजनक और दर्दनाक परिस्थितियों का सामना करना आपकी समझदारी को दर्शाता है और लम्बे समय तक हमेशा अधिक उपयोगी होता है।

मेरी प्रार्थना...

पिता, मैं संयम और आत्म-नियंत्रण को मांगता हूं। मैं जानता हूं कि ये गुण मेरे जीवन में आपकी आत्मा की उपस्थिति के फल का हिस्सा हैं, इसलिए मैं मांगता हूं कि पवित्र आत्मा का मेरे हृदय और जीवन पर अधिक प्रभाव डालते रहे और कृपया मुझे अपना मुंह बंद रखने के लिए समझ और बुद्धि दें, जब तक कि मुझे प्रार्थना करने का अवसर नहीं मिले और उन मुद्दों और लोगों को शामिल करने के बारे में सोचें। यीशु के नाम में मैं प्रार्थना करता हूँ| आमीन।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ