आज के वचन पर आत्मचिंतन...

यीशु हमारे पापों के लिए मरने से भी ज्यादा किया है;वह पुनर्जीवित प्रभु के रूप में जीता है.अगर परमेश्वर ने स्वर्ग से उनके पुत्र को भेजता है,उसको क्रूस पर मरने के लिए त्याग करता है,और हमें बचाने के लिए मृत्य से जीवित करता है,तो सोचिये क्या क्या परमेश्वर ने हमारे लिए रखा है.जब यीशु का उद्धार के शक्ती और परमेश्वर का अदभुत अनुग्रह के बारे में सोचते है, तो हमने अभी तक कुछ भी नहीं देखा है!

Thoughts on Today's Verse...

Jesus did more than die for our sins; he lives as resurrected Lord. So if God would empty heaven of his Son, let him die on the cross, and then raise him from the dead to save us, just think what God has in store for us now that he has saved us! When it comes to Jesus' saving power and God's amazing grace, we haven't seen anything, yet!

मेरी प्रार्थना...

पवित्र प्रभु,मै उस दिन के लिए अग्रिम हूँ जब मै आपको देख साखू और आपकी अनुग्रह को उसकी पूरी महिमा से अनुभव करूँ. मुझ में अज साहस प्रेरित कीजिये,ताकि मै विश्वास के साथ मेरे मार्गो में हर एक चुनौतियों को सामना कर सकू और ईमानदारी से दूसरों के सामने जी सकू.अमिन

My Prayer...

Holy LORD, I look forward to the day that I get to see you and experience your grace in all of its glory. Inspire courage in me today, so that I can confidently face the challenges in my path and live faithfully before others. Father, I do believe that the best of what Jesus wants to do in me lies ahead, so use me to your glory. In Jesus' name. Amen.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

Today's Verse Illustrated


Inspirational illustration of रोमियो  ५:९-१०

टिप्पणियाँ