आज के वचन पर आत्मचिंतन...

हम पापों ने हम मौत काम कर दी । परमेश्वर के अनुग्रह ने हमे जीवन दिलाया । इन दोनों परकोटि में अंतर ? मसीह का क्रूस जिसने हमारे पाप की गहराई पर पूल बांधा और हमे परमेश्वर की दया , क्षमा और छुटकारे के करीब लाया !

Thoughts on Today's Verse...

Our sin earns us death. God's grace gives us life. The difference between these two extremes? The Cross of Christ which spans the chasm of our sin and brings us to the mercy, forgiveness, and redemption of God!

मेरी प्रार्थना...

पवित्र पिता , मुझे येशु केदरा बचाने के लिए धन्यवाद् । प्रभु येशु मेरे पापों के दाम को चुकाने के लिए धन्यवाद् धन्य पवित्र आत्मा, मुझे साफ़ करके मुझे परमेश्वर का रहवास स्थान बनने के लिए धन्यवाद् । येशु के नाम से प्रार्थना करता हूँ ।अमिन ।

My Prayer...

Holy Father, thank you for saving me through Jesus. Lord Jesus, thank you for paying the price for my sins. Blessed Holy Spirit, thank you for cleansing me and making me God's holy dwelling place. In Jesus' name I pray. Amen.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

Today's Verse Illustrated


Inspirational illustration of रोमिओ ६:२३

टिप्पणियाँ