आज के वचन पर आत्मचिंतन...

हमारी पवित्रता की प्रेरणा परमेश्वर की अविश्वसनीय दया और अनुग्रह है.हम खुद उसके पास प्रस्ताव करते हैं क्योंकि उसने पहले ही हमें यीशु के बलिदान के माध्यम से अपना प्यार दिखाया है.जैसा कि हम उन्हें सम्मान देने के लिए खुद को समर्पित करते हैं, हम उनकी आराधना करते हैं.जैसा कि हम दुनिया की जीवन शैली में ढाले जाने से इनकार करते हैं हम उसे प्रशंसा प्रदान करते हैं। जैसा कि हम इन चीजों को अपने जीवन से लगातार करते हैं, परमेश्वर की इच्छा और भी अधिक स्पष्ट हो जाती है।आत्मा की मदद से, हम रोज़ाना यीशु की तरह अधिक होने के लिए परिवर्तित हो जाते हैं (2 कोर। 3:18) और हम परमेश्वर के अधिक चरित्र को प्रदर्शित करते हैं (गल। 5: 22-23)।

Thoughts on Today's Verse...

The motivation for our holiness is God's incredible mercy and grace. We offer ourselves to him because he has already shown us his love through the sacrifice of Jesus. As we offer ourselves to honor him, we are worshipping him. As we refuse to be molded into the lifestyle of the world, we offer him praise. As we consistently do these things with our lives, God's will becomes even more clear. With the Spirit's help, we are daily being transformed to be more like Jesus (2 Cor. 3:18) as we display more of the character of God (Gal. 5:22-23).

मेरी प्रार्थना...

पिता,जैसा कि पुराना भजन कहता हैं ,"अपना स्वयं का तरीका हो हे प्रभु ... मुझे अपनी इच्छा के अनुसार और अपनी रूप में बनाओ!मैं ख़ुशी से आपको मेरा दिल,मेरा जीवन, और मेरा भविष्य को आपकी महिमा के लिए उपयोग के समर्पित करता हूँ"यीशु के नाम से मांगता हूँ.अमिन.

My Prayer...

Father, as the old hymn says, "Have thine own way Lord... mold me and make me after thy will!" I gladly offer you my heart, my life, and my future to use to your glory. In Jesus' name. Amen.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

Today's Verse Illustrated


Inspirational illustration of रोमियो 12:1-2

टिप्पणियाँ