आज के वचन पर आत्मचिंतन...

मूल्य चूका गया है.मुक्तिधन हमें प्रदान की गया है।परमेश्वर के न्याय टाल दिया गया, इस लिए नहीं की हमने उसे संतुष्ट करने के लिए कुछ है,बल्कि हमारे पापों के लिए यीशु की अपनी बलिदान के कारण थे।अगर परमेश्वर हमें खुद को अपने आप में सामंजस्य करने के लिए इतनी बड़ी मात्रा में आगे अता है और हमें अपने परिवार में अपनाएं, हम कैसे मना कर सकते हैं?हमें नहीं करनी है!परमेश्वर पिता,हम आपको हमारे दिल की पेशकश करते हैं!

मेरी प्रार्थना...

हे दयालु ईश्वर,मुझे पता है कि मेरे पाप ने आपकी दिल टूट चुका है और आपकी पवित्रता को अपमानित किया है।इसलिए,शब्द भी आप के लिए मेरी आभारी दिल को व्येक्तित नहीं कर सकते है।आप मेरे पाप से चोट पहुँचे थे और फिर भी मुझे उसमें से छुड़ाने के लिए एक बलिदान प्रदान किया और मुझे आपको वापस समेट दिया।मैं आपकी कृपा के लिए आपकी प्रशंसा करता हूँ, आपके प्यार के लिए धन्यवाद और में आपकी दया साझा करने का वादा करता हूँ। यीशु के नाम से प्रार्थना मांगता हूँ जो मेरी बलिदान है.अमिन!

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ