आज के वचन पर आत्मचिंतन...

प्रेम भावना या रवैया से बहुत अधिक है: प्रेम एक क्रिया है.जब हम प्यार करते हैं, तो हम इसे हमारे कर्मों द्वारा दिखाते हैं.यीशु के अनुयायी होने के नाते, हमारा प्यार यीशु के सिखाए गए कार्यों की आज्ञा मानने के द्वारा दिखाया जाता है।बेशक, कि आज्ञाकारिता एक अविश्वसनीय आशीश लाती है—यीशु उन लोगों के लिए खुद को दिखाया देता जो उसकी आज्ञा मानते हैं!

मेरी प्रार्थना...

हे प्रभु,मेरे पिता, मेरे पापों के लिए मुझे क्षमा कर।बुराई का विरोध करने के लिए मुझे समर्थि बनाये.मेरे प्रभु और उद्धारकर्ता, यीशु की शिक्षा का पालन करने में मुझे खुशी मिलनेके लिए सहायता कीजिये.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ