आज के वचन पर आत्मचिंतन...

परमेश्वर के लोग और परमेश्वर की सेवकाईयों निरन्तर घात हो रहें हैं। शैतान शांत नहीं बैठता जब उसका राज्य लूट रहा हो। परन्तु सेवकाई के जो प्रथम सपाही हैं उन्हें अकेले लड़ाई लड़ने की आवश्कयता नहीं। आप उनकी सहायता कर सकते हैं। आप उनके "संघर्ष में जुड़ सकते हैं" परमेश्वर से उनके लिए प्रार्थना करने के दवारा। मैं जनता हूँ की "हार्टलाईटस" में हमे सच में आपके प्रार्थनाओं की सुरक्षा की जरुरत हैं, समर्थ के लिए और बुद्धि के लिए। दूसरे जिन्हे आप जानते हो उन्हें भी इसी तरह की प्रार्थना की जरुरत हैं। धन से अधिक, पीठ पैर थाप से अधिक, कुख्यात होने से या सफलता से अधिक। परमेश्वर के सेवकों को और परमेश्वर के कामों को आपके प्रार्थना सहायता की जरुरत हैं।

Thoughts on Today's Verse...

God's people and God's ministries are constantly under attack. Satan does not sit idly by while his kingdom is plundered. But those on the front lines of ministry do not need to fight alone. You can help them. You can "join the struggle" by praying to God for them. I know at HEARTLIGHT.org and VerseoftheDay.com we truly need your prayers for protection, for power, and for wisdom. Others you know need similar prayers. More than money, more than pats on the back, more than notoriety or success, God's servants and God's work need your prayerful support.

मेरी प्रार्थना...

सर्वसमर्थी और परम परमेश्वर, कृपया इन सेवको को आशीष और सुरक्षा और समर्थ दे जो आज मेरे दिल पर हैं .... प्रभु, कृपया अपनी कलीसाओं की सेवकियाँ, सेवको और अपने जनों को आशीष देना और प्रिय ईश्वर, कृपया अपने बच्चों को जो येशु नाम के कारन उत्पीडना में और सताव में हैं, छुडाले। हे परमेश्वर सब समर्थ, आदर और महिमा आपका ही हैं। मेरे विजयी राजा, आपका मेमना जो बलिदान हुआ उसके नाम से प्रार्थना करता हूँ। अमिन।

My Prayer...

Almighty and Sovereign God, please bless and protect and empower these servants who are on my heart today... LORD, please bless the ministries, ministers, and missionaries of your Church and please dear God, deliver your children who are under oppression and persecution for the name of Jesus. To you, O God, belongs all power and honor and glory. In the name of my conquering King, your Lamb who was slain, I pray. Amen.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

Today's Verse Illustrated


Inspirational illustration of रोमियों १५:३०

टिप्पणियाँ