आज के वचन पर आत्मचिंतन...

बहुतसे भीं धार्मिक समूह के लोग तुम्हे हर प्रकार के तौर-तरीकों को बताएंगे यह जानने के लिए की तुम में पवित्र आत्मा हैं भी की नहीं । यीशु के पास एक साधारण उत्तर हैं " उनके फलों के द्वारा तुम उन्हें जानोगें।" पौलुस हमें पवित्र फलों की परिभाषा देता हैं, —प्रेम, आनंद, शांति, धीरज, कृपा, भलाई,विश्वास, नम्रता, सैयाम। तो क्यों ना इसे जोर से दोहराए और परमेश्वर से मांगे की यह सब फल आपके होजायें समपूर्ण मात्रा में !

मेरी प्रार्थना...

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ