आज के वचन पर आत्मचिंतन...

जैसे यीशु पाप के कारन मरा है , वैसे ही हम भी पाप में मरे है । लेकिन, पाप को वैसेही एक तरफ रखने द्वारा पाप को हमसे दूर नहीं कर सकते है । प्रभु यीशु के अध्भुत इच्छा के प्रति हमारे दिल को खोलते हुए ,हमें हर एक दिन यीशु का नया जीवन को अपनाना चाहिए। आइये जो मारा हुआ है उसे दफनाए और अतीत में रहने दे । आइए हम उत्सव के साथ परमेश्वर के लिए जीते हुए हमारी आँखों को यीशु के ऊपर डेल और हमारे लिए जो परमेश्वर का भविष्य है उस पर ध्यान दे।

मेरी प्रार्थना...

सार्वभौमी प्रभु और प्यारे पिता , मैं चाहता हूं कि मेरी पाप का पिछला जीवन दफन रहे और मारा हुआ रहे। कृपया मुझे एक फुरतीला जीवन के लिए सशक्त करें जो आपकी आत्मा से भरा है और हमेशा आपके अग्रणी के लिए खुला है। कृपया अपनी उपस्थिति और आपका इच्छा मेरे लिए स्पस्ट करे. यीशु के नाम में मैं इस प्रार्थना मांगता हूँ। अमिन ।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ