आज के वचन पर आत्मचिंतन...

बुद्धिमान लोगों को दूसरों का अनादर करके और उन्हें नीचा दिखाकर अपनी बुद्धि साबित नहीं करनी है। इसके बजाय, वे अपनी जीभ को लगाम देकर तथा उनका जीवन ही जो भला, प्रसंसनीय, धर्मी और सत्य है उसको प्रकट करता है। व्यंग्य की दुनिया में और एक ऐसी संस्कृति में जो उस व्यक्ति के प्रति आकर्षित होती है जो दूसरों को त्वरित और धारदार "तिरस्कार " के साथ आकर्षित कर सकता है, पर हम अपने शब्दों से आशीष ही देने के लिए बुलाये गए हैं (इफिसियों 4:29)।

मेरी प्रार्थना...

पवित्र पिता, मैं जिस तरीके से अपने शब्दों का उपयोग करता हुँ उसमे मुझे बुद्धि प्रदान कर। कि यह दूसरों के लिए आशीष और आपकी स्तुति का स्रोत हो। यीशु के नाम में मैं प्रार्थना करता हुँ | आमीन !

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ