आज के वचन पर आत्मचिंतन...

हमारे शरीर नश्वर और त्रुटिपूर्ण हैं। वे हमारी कमजोरी और पाप से प्रभावित हैं। लेकिन, यीशु मसीह में दिया गया परमेश्वर की कृपा से , हमारा भविष्य हमारे शरीर के साथ धूल में आराम नहीं करता है, बल्कि हमारे आदर्श प्रभु की शक्ति में है।

मेरी प्रार्थना...

सर्वशक्तिमान परमेश्वर , मेरे नश्वर शरीर की मृत्यु से परे मुझे जीवन देने के लिए धन्यवाद। मेरे पाप-दाग वाले मांस से परे मुझे पवित्रता देने के लिए धन्यवाद। मुझे मृत्यु से मुक्ति दिलाने और मुझे आपकी महिमा में लाने के लिए धन्यवाद। अब, प्रिय पिता, मेरे शब्द, कर्म और विचार आपकी कृपा और शक्ति को दर्शाते हैं जो मैं आज और प्रत्येक दिन करता हूं। यीशु के नाम में मैं प्रार्थना करता हूँ। अमिन।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ