आज के वचन पर आत्मचिंतन...

2 कुरिन्थियों में पौलुस के आवर्ती विषयों में से एक यह है कि परमेश्वर की सामर्थ्य निर्बलता में प्रकट होती है। 1 कुरिन्थियों में, वह इस बात पर ज़ोर देता है कि परमेश्वर की ताकत, बुद्धि और शक्ति को सामान्य रूप से निर्बलता और अपमान का संकेत दिखाया गया है - क्रॉस (1 कुरिन्थियों 1: 18-2: 5)। पौलुस कोई डरपोक नहीं था - वह सब स्मरण रखिये की उसने सब कुछ सहन करने पर भी प्रभु की सेवा करता रहा (2 कुरिन्थियों 11: 24-27)। वह सिर्फ इतना जानता था कि अपने सभी प्रशिक्षण और प्रतिभाओं के साथ, वह कुशल, समझदार या इतना मजबूत नहीं था कि वह सब कुछ कर सके जो परमेश्वर के राज्य के लिए किया जाना चाहिए। लेकिन वह जानता था कि जब हम अपनी अपर्याप्तता को पहचानते हैं, तो ईश्वर हमारी निर्बलता को भांप लेता है और जब हम खुद को उसके प्रति अर्पित करते हैं, तो हम बड़े सामर्थी रूप से उसका उपयोग करते हैं।

मेरी प्रार्थना...

प्रिय स्वर्गीय पिता, उन सभी समयों के लिए धन्यवाद, जब आपने मुझे परीक्षण के तहत मजबूत किया, कठिन परिस्थिति में मुझे बुद्धि दी, या मुझे सशक्त बनाया, जब मुझे संभालने की क्षमता से अधिक परिस्थितियों और अवसरों का सामना करना पड़ा आपने मुझे संभाला । मैं जनता हुँ कि आपने अपनी अनुग्रह से मुझे बचाया; लेकिन हर दिन जो मैं आपकी सेवा करता हुँ, मुझे फिर से स्मरण आ जाता है कि आपकी अनुग्रह आपके सेवा करने के माध्यम से मुझे प्रेरित करती है। धन्यवाद, यीशु के नाम से। आमीन।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। [email protected] पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ

Important Announcement! Soon posting comments below will be done using Disqus (not facebook). — Learn More About This Change