आज के वचन पर आत्मचिंतन...

मुझे याद दिलाता है कि परमेश्वर ने अपने बपतिस्मा में यीशु को क्या कहा था - "... आप में मैं अच्छी तरह से प्रसन्न हूँ!" नूह के समय में पाप में डूबी हुई संस्कृति के बीच में भी, परमेश्वर उसके प्रति एकनिष्ठ हृदय को प्राप्त कर सकता था और उसका और उसके परिवार का उपयोग आशीश के रूप में कर सकता था और दुनिया को एक भविष्य प्रदान कर सकता था। हो सकता है कि हम प्रत्येक व्यक्ति हमारे दिन में, हमारी नौकरी में, हमारे स्कूल में, हमारे पड़ोस में ऐसा व्यक्ति हो। क्या आप उस अंतर की कल्पना कर सकते हैं जो अंततः होगा अगर हम में से प्रत्येक ने नूह बनने का फैसला किया?

मेरी प्रार्थना...

प्यारे चरवाह और पवित्र परमेश्वर , कृपया मुझे आशीश दें जैसे मैं उत्साह से ऐसा जीवन जीना चाहता हूं जो आपको प्रसन्न करे और आपको आनंदित करे। दुनिया में फर्क करने के लिए कृपया मुझे और मेरे कालिश्य का परिवार को उपयोग करें। प्रभु यीशु के नाम पर मैं प्रार्थना करता हूँ । अमिन ।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ