आज के वचन पर आत्मचिंतन...

जीसस वापस आ रहे हैं! आप तैयार हैं? क्या आप इंतज़ार कर रहे हैं?

मेरी प्रार्थना...

प्रभु यीशु आओ, तुम्हारी दुल्हन तुम्हारा इंतजार कर रही है! तथास्तु। (1 कुरिन्थियों 16:22 और प्रकाशितवाक्य 21: 2, 9; 22:17 देखें)

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ