आज के वचन पर आत्मचिंतन...

हमे एक दूसरे की जरूरत है।हम इसे अपने दम पर नहीं कर सकते है।प्रोत्साहित करने के लिए और सेवा और विश्वास के जीवन जीने के लिए एक दूसरे को प्रेरित करने के लिए परमेश्वर हमे नियमित रूप से बुलाता है.'यीशु के वापसी के दिन और क्षितिज पर हमारा परम जीत के साथ, हम और भी मदद करने के लिए और एक दूसरे को प्रोत्साहित करने के लिए अधिक प्रेरित किया जाना चाहिए।

Thoughts on Today's Verse...

We need each other. We cannot make it on our own. God calls us to get together regularly to encourage and to motivate each other to live vibrant lives of service and faith. With the day of Jesus' return and our ultimate victory on the horizon, we should be motivated even more to help and to encourage each other.

मेरी प्रार्थना...

परमेश्वर प्रभु, मेरे लिए एक मसीह परिवार देने के लिए धन्यवाद जो मुझे दुसरोंका सेवा करने के लिए प्रोस्शाहित और उत्साहित करते है.कृपया मुझे दुसरोंको आशीष करने के लिए इस्थामल कीजिये जब हम यीशु के नाम से आपको प्रसंसा करने एकाठा होते है.यीशु मसीह का नाम से प्रार्थना मांगता हूँ.अमिन.

My Prayer...

Lord God, thank you for giving me a Christian family to encourage me and motivate me to serve others. Please use me to bless others when we gather in Jesus' name to praise you. In the name of the Lord Jesus I pray. Amen.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

Today's Verse Illustrated


Inspirational illustration of इब्रानियों १०:२४-२५

टिप्पणियाँ