आज के वचन पर आत्मचिंतन...

धार्मिकता हमे महान आशीष लेती है । हिंसा खुद अपना घिनौना परिणाम बन जाता है, उनके लिए जो दुसरो पर उसका उपयोग करते है । तो हमारा चुनाव क्या है ? आशीष या हिंसा ? उत्साहित या अभद्र वचन ? तो असल चुनाव क्या है ? की परमेश्वर को हम चरित्र को परिभाषित करने दे न की किसी मनुष्य को नहीं ।

मेरी प्रार्थना...

पिता, मै आपका जीवन जीना चाहता हूँ की आपको खुश कर सकू, की आपके राज्य में आशीष ला सकू , और औरो को ये अहसास दिलाने में मद्दत कर सकू की हिंसा उनके खुदके लिए , औरो के लिए , और छोटे बच्चो के लिए भी नुकसानदाई है । येशु के नाम से प्रार्थना । अमिन ।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। [email protected] पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ

Important Announcement! Soon posting comments below will be done using Disqus (not facebook). — Learn More About This Change