आज के वचन पर आत्मचिंतन...

हमारे तूफानों और घबराहटों के मध्य में, यीशु हमारे करीब से गुजरते हैं, हम अपने डर और आवशक्यता को जाहिर करें इस इंतज़ार में, ताकि वह हमारे कठिनाइयों में हमारे संग हो और हमारी सहायता करे। अद्धभुत्ता से, यीशु के कहे हुए शब्द यहाँ प्रतेक्ष हैं, "हियाव बांध ! मैं हूँ।" परमेश्वर ने मूसा को निर्गमन ३ अध्याय में मैं हूँ के तौर पर प्रगट किया था, मूसा को यह याद दिलाते हुए की उसने इस्रायलियों के रोने को सुना हैं और उनकी परेशानियों को देखा हैं और अब उनकी सहायता के लिए निचे आरे हैं। यीशु भी हमारे लिए ऐसा ही करेंगे!

मेरी प्रार्थना...

धन्यवाद, हे परमेश्वर, ना केवल होने के लिए, बल्कि करीब होने के लिए ——- हमेशा मेरे दुःख में और डर में मेरे रोने की पुकार को उत्तर देनेके लिए तैयार होने के लिए। आपको और प्रभु यीशु को मेरे रोज़मर्रा के जीवन में सक्रिय कार्य करने के लिए आमंत्रित नहीं करने के लिए मुझे क्षमा करे। मैं जनता हूँ आप करीब हो, तो मैं आपसे मांगता हूँ की न केवल आप मेरे जीवन में आपके उपस्तिथि को जागरूक करे, बल्कि आप धीरे से मुझे याद दिलाएंगे जब मैं आपको अपने दैनिक जीवन की रूप-रेखा से बहार करता हुआ पाया जाऊँ। यीशु के नाम से प्रार्थना करता हूँ। अमिन।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

Verse of the Day Wall Art

टिप्पणियाँ