आज के वचन पर आत्मचिंतन...

मुझे उस सरल सत्य से प्यार है जो यीशु ने अपने पहले शिष्यों को सिखाया था। आप यीशु के परिवार के एक हिस्से के रूप में पहचाना जाना चाहते हैं? अपने पिता की बात मानें और अपने पिता की मरज़ी पूरी करें!

मेरी प्रार्थना...

आज मुझे आशीर्वाद दो, स्वर्गीय पिता, स्पष्टता के साथ उन अवसरों को देखने के लिए जिन्हें आपने मेरे तरीके से अपनी इच्छा के अनुसार जीने के लिए रखा है। हालाँकि, प्रिय पिता, मैं नहीं चाहता कि यह स्पष्टता क्षणभंगुर हो। हर दिन मेरे रास्ते में आने वाले अवसरों के बारे में अधिक जानकारी होने में मेरी मदद करें। यीशु के नाम में मैं प्रार्थना करता हूँ। अमिन।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ