आज के वचन पर आत्मचिंतन...

येशु का जी उठना केवल शुरवात थी! उसके जी उठने का मतलब है की हम जो उस पर विश्वास रखते है, और उस पिता पर भरोसा रखते है जिसने उसे मरे हुओं में से जिलाया हैं, आत्मविश्वास रख सकते हैं की हम जो उसके हैं, चाहे वे जीवित हो या मरे हुए जब वह आएंगे, वे भी उसकी मृत्यु पर विजय में भागिदार होंगे ।

Thoughts on Today's Verse...

Jesus' resurrection was just the beginning! His resurrection means that those of us who have faith in him, who trust in the Father that raised him from the dead, can have confidence that those who belong to him, whether they are living or dead when he comes, will also share in his victory over death.

मेरी प्रार्थना...

स्वर्ग में प्यारे पिता, येशु में मुझे जीवन और मृत्यु पर विअज्य देने के लिए धन्यवाद ।मैं जनता हूँ की जिस तरह अपने उसे मृत्यु में से जिलाया , आप मुझे भी उस महान दिन जब येशु लौटकर आएगा जिलाएँगे। कृपया मुझमे जो पुनरुत्थान की शक्ति हैं उसे इस्तेमाल करे मेरी मददत करने के लिए की मैं आज और अधिक विजयी जीवन जी सकू । येशु के नाम से मैं प्रार्थना करता हूँ । आमीन ।

My Prayer...

Loving Father in heaven, thank you for giving me the victory over sin and death in Jesus. I know that just as you raised him from the dead, you will also raise me up at the great day of Jesus' return. Please use that resurrection power in me to help me live more victoriously today. In Jesus' name I pray. Amen.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

Today's Verse Illustrated


Inspirational illustration of 1 थिस्सलुनीकियों 4:14

टिप्पणियाँ