आज के वचन पर आत्मचिंतन...

पानी! थाकावट और प्यास के लिए यह अनमोल उपहार है! यह जरूरी ताज़गी हम सभी की जरूरत है. यीशु, हालांकि, पानी प्रदान करता है जिसे हमें ले जाने या शुद्ध करने की ज़रूरत नहीं है। नहीं, ये पानी है जो हमारे भीतर उत्पात होता है. यह पानी है जो पवित्र आत्मा हमें लाता है यह पानी है जो हमें अनन्त जीवन देता है जो अब शुरू होता है और हमेशा के लिए रहता है!

Thoughts on Today's Verse...

Water! That precious gift for the tired and thirsty. Water! That essential refreshment we all need. Jesus, however, offers water we don't have to carry or purify. No, this is water that wells up within us. This is the water that the Holy Spirit brings us. This is the water that gives us eternal life that starts now and lasts forever!

मेरी प्रार्थना...

पिता,मैं जानता हूं कि जब मैं मसीह बन गया तो यीशु ने पवित्र आत्मा को मुझ में रहने के लिए भेजा है.मैं यह कहता हूँ कि मेरा जिद्दी और मेरे पापी इच्छाओं को आत्मा की शक्ति से दूर किया जा सकता है, और यह कि मेरी जिंदगी खुशी और आत्मविश्वास प्रदर्शित करेगी कि आपकी ताज़ा उपस्थिति लाता है। यीशु के नाम से प्रार्थना करता हूँ. अमिन।

My Prayer...

Father, I know Jesus sent the Holy Spirit to live in me when I became a Christian. I ask that my stubborn will and that my sinful desires can be overcome with the Spirit's power, and that my life will display the joy and confidence that your refreshing presence brings. In Jesus' name I pray. Amen.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

Today's Verse Illustrated


Inspirational illustration of यूहन्ना 4:14

टिप्पणियाँ