आज के वचन पर आत्मचिंतन...

मेरी प्रार्थना...

हे अनमोल और धर्मी पिता, मुझे नियंत्रण से बाहर और बिना उद्देश्य के इधर-उधर भागने की बजाय अपनी ज़िम्मेदारियों को धीमा करने और सीखने के लिए आपकी मदद की ज़रूरत है। कृपया मुझे न केवल उस ज्ञान को प्रदान करें जिसके लिए मैं प्रार्थना कर रहा हूं, बल्कि मेरे दिल और दिमाग को बदलने के लिए उस धैर्य की भी आवश्यकता है जो मुझे चाहिए। यीशु के नाम में मैं इसे पूछता हूँ। अमिन ।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। [email protected] पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ