आज के वचन पर आत्मचिंतन...

परमेश्वर ने हमें आशीष देने के लिए अपना वचन दिया। और जो वो हमसे कहता है उसका पालन करते है, तो हम उस आशीष में चलने लग जाते हैं। दूसरी ओर, जैसा कि यीशु ने हमें पहाड़ी उपदेश के अंत में यह स्मरण दिलाया, कि जब हम परमेश्वर की इच्छा को जानते हैं और उसका पालन नहीं करते हैं, तो हम मूर्ख हैं। मैं आपके बारे में नहीं जानता, लेकिन मैं आशीष पाना पसंद करता हुँ | परमेश्वर को उसके वचन - पवित्रशास्त्र - के माध्यम से हमसे बात करने के लिए धन्यवाद ताकि हम उसकी इच्छा को जान सकें, और उसके आशीष में चल सकें, और अपने जीवित वचन - उसके पुत्र के माध्यम से हमसे बात कर सके | और अपने जीवन में लागू करने के द्वारा हम उसके हृदय को जान सकें |

Thoughts on Today's Verse...

God gave us his word to bless us. When we obey what he asks of us, we get to walk in that blessing. On the other hand, as Jesus reminded us at the end of the Sermon on the Mount, when we know the will of God and don't obey it, we are foolish. I don't know about you, but I prefer to receive a blessing! Thank God for speaking to us through his word — the Scriptures — so we can know his will and walk in his blessing and for speaking to us through his living Word — his Son — so we can know his heart as we apply it to our lives.

मेरी प्रार्थना...

पवित्रशास्त्रों के माध्यम से अपनी इच्छा प्रकट करने के लिए धन्यवाद, पिता जी। मुझे आशीष देने और बुराई से बचाने के लिए धन्यवाद। कृपया मेरी बीते गलतियों को क्षमा करें जब कई बार मैंने आपकी इच्छा का पालन करने के बजाय तिरस्कार और अनदेखा कर दिया । आज, मैं आपकी इच्छा से जानबूझकर जीने और आपके वचन का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध प्रतिबद्ध होता हुँ । यीशु के नाम से मैं प्रार्थना करता हुँ | आमीन |

My Prayer...

Thank you, Father, for revealing your will to me through the Scriptures. Thank you for wanting to bless me and protect me from evil. Please forgive me for the times in the past that I have ignored your will or neglected being obedient to it. Today, I commit to live intentionally in your will and to live obediently to your word. In Jesus' name I pray. Amen.

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। [email protected] पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

Today's Verse Illustrated


Inspirational illustration of लूका 11:28

टिप्पणियाँ

Important Announcement! Soon posting comments below will be done using Disqus (not facebook). — Learn More About This Change