आज के वचन पर आत्मचिंतन...

परमेश्वर ने हमें आशीष देने के लिए अपना वचन दिया। और जो वो हमसे कहता है उसका पालन करते है, तो हम उस आशीष में चलने लग जाते हैं। दूसरी ओर, जैसा कि यीशु ने हमें पहाड़ी उपदेश के अंत में यह स्मरण दिलाया, कि जब हम परमेश्वर की इच्छा को जानते हैं और उसका पालन नहीं करते हैं, तो हम मूर्ख हैं। मैं आपके बारे में नहीं जानता, लेकिन मैं आशीष पाना पसंद करता हुँ | परमेश्वर को उसके वचन - पवित्रशास्त्र - के माध्यम से हमसे बात करने के लिए धन्यवाद ताकि हम उसकी इच्छा को जान सकें, और उसके आशीष में चल सकें, और अपने जीवित वचन - उसके पुत्र के माध्यम से हमसे बात कर सके | और अपने जीवन में लागू करने के द्वारा हम उसके हृदय को जान सकें |

मेरी प्रार्थना...

पवित्रशास्त्रों के माध्यम से अपनी इच्छा प्रकट करने के लिए धन्यवाद, पिता जी। मुझे आशीष देने और बुराई से बचाने के लिए धन्यवाद। कृपया मेरी बीते गलतियों को क्षमा करें जब कई बार मैंने आपकी इच्छा का पालन करने के बजाय तिरस्कार और अनदेखा कर दिया । आज, मैं आपकी इच्छा से जानबूझकर जीने और आपके वचन का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध प्रतिबद्ध होता हुँ । यीशु के नाम से मैं प्रार्थना करता हुँ | आमीन |

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ