आज के वचन पर आत्मचिंतन...

कई दिनों पहले, हमने इस बात पर जोर दिया कि जो मसीही शारीरिक रूप से मर गए थे, वे वास्तव में वे अपने सम्बन्ध से परमेश्वर की प्रेमपूर्ण उपस्थिति से अलग नहीं हुए थे । आज, यीशु ने हमें एक बहुत ही समान बात पर विश्वास करने के लिए चुनौती दी है। क्या आप मानते हैं कि परमेश्वर द्वारा बनाया गया वास्तविक, जीवित हिस्सा कभी नहीं मरेगा जबकि आपका भौतिक शरीर मर जाता है? यह एक अविश्वसनीय विचार है, है ना? हम अनन्त, अमर हैं, यीशु के साथ जुड़ गए और उनका भविष्य हमारे साथ जुड़ गया। (कुलुस्सियों 3: 1-4 देखें)

मेरी प्रार्थना...

सर्वशक्तिमान ईश्वर, मुझे विश्वास है कि यीशु के कारण, मैं कभी नहीं मरूंगा। कृपया मुझे आशीष दें, प्रिय पिता, ताकि मैं इस जीवन में यहां रहते हुए हर मिनट की गिनती कर सकूं। उसी समय, प्रिय परमेश्वर, मैं आपको आमने सामने देखने के लिए तत्पर हूं। यीशु के नाम से मैं प्रार्थना करता हूँ। आमीन !

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ