आज के वचन पर आत्मचिंतन...

मलाकी 4: 6 में वादा किया गया था कि पितायें और बच्चे दिल से फिर मिलेंगे। आइए हम अपने घरों में अपने बच्चों का पालन पोषण और सुधार कर उन्हें संतुलन के साथ सही बनाएं । चलो हमारे विश्वास को नियमों और प्रतिबंधों से भरा नहीं बनाते हैं कि हमारे बच्चों के लिए यह सुनना असंभव हो जाता है कि वे हमारे प्यारे बच्चे हैं, जिनके साथ हम बहुत प्रसन्न हैं! आइए हम इतनी स्वतंत्रता न दें कि हमारे बच्चे उपेक्षित और अनिश्चित महसूस करें। आइए हम अपने दिलों को उनकी ओर मोड़ें और परमेश्वर से प्रार्थना करें कि वे अपने दिलों को अपने घर और हमारे साथ अपने घर की ओर मोड़ें!

मेरी प्रार्थना...

हे सर्वशक्तिमान परमेश्वर ,अब्बा पिता ,कई पितायें आध्यात्मिक और शारीरिक रूप से अपने बच्चों को छोड़ चुके हैं, उसी कारन हमारी भूमि एक अभिशाप के तहत है । कृपया पालकोंको , और विशेष रूप से पिताओंको , जो प्यार, पोषण और सुधार के चुनौतीपूर्ण कार्यों को संतुलित करेंगे, वैसा लोगों को उठाएँ ताकि हमारी भूमि ठीक हो जाए और हमारे बच्चे आपके प्यार और अनुग्रह को जान सकें। यीशु के नाम पर। अमिन।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ