आज के वचन पर आत्मचिंतन...

मसीह बनने से पूर्व पौलुस ने अपने आत्मिक जीवन में काफी महान कार्य किये हुए हैं। परमेश्वर के प्रति और उसके वचन के प्रति उसका समर्पण प्रसिद्ध हैं। परन्तु उसने मसीह को जानने और उसके अनुग्रह जो उसने पाया हैं उसकी तुलना में उन पुराणी सफलताओं को कूड़े की नाई जाना, । यीशु में जो हमने पाया वह केवल उद्धार था, ना की बस पापों से और मृत्यु से उद्धार, परन्तु अनुग्रह और सामर्थ के जीवन के लिए उद्धार पाया हैं ।

मेरी प्रार्थना...

सर्वशक्तिमान और विश्वासयोग्य पिता, आपकी कृपा के लिए धन्यवाद जिसने मुझे वैधानिकता, अभिमान, अहंकार, पाप और निराशा से बचाया। आपने मुझे यीशु में जो पूर्णता दी है, उसके लिए धन्यवाद। अपनी कृपा को और अधिक पूरी तरह से जानने में दूसरों की मदद करने के लिए कृपया मेरा उपयोग करें। यीशु के नाम में मैं प्रार्थना करता हूँ। अमिन ।

आज का वचन का आत्मचिंतन और प्रार्थना फिल वैर द्वारा लिखित है। phil@verseoftheday.com पर आप अपने प्रशन और टिपानिया ईमेल द्वारा भेज सकते है।

टिप्पणियाँ